Myfayth

विनय चालीसा – नीम करौरी बाबा (Vinay Chalisa – Baba Neem Karori)

॥ दोहा ॥

मैं हूँ बुद्धि मलीन अति ।

श्रद्धा भक्ति विहीन ॥

करूँ विनय कछु आपकी ।

हो सब ही विधि दीन ॥
READ MOREPlayback speed1x Normal00:00/02:22Skip
॥ चौपाई ॥

जय जय नीब करोली बाबा ।

कृपा करहु आवै सद्भावा ॥

कैसे मैं तव स्तुति बखानू ।

नाम ग्राम कछु मैं नहीं जानूँ ॥

जापे कृपा द्रिष्टि तुम करहु ।

रोग शोक दुःख दारिद हरहु ॥

तुम्हरौ रूप लोग नहीं जानै ।

जापै कृपा करहु सोई भानै ॥4॥

करि दे अर्पन सब तन मन धन ।

पावै सुख अलौकिक सोई जन ॥

दरस परस प्रभु जो तव करई ।

सुख सम्पति तिनके घर भरई ॥

जय जय संत भक्त सुखदायक ।

रिद्धि सिद्धि सब सम्पति दायक ॥

तुम ही विष्णु राम श्री कृष्णा ।

विचरत पूर्ण कारन हित तृष्णा ॥8॥

जय जय जय जय श्री भगवंता ।

तुम हो साक्षात् हनुमंता ॥

कही विभीषण ने जो बानी ।

परम सत्य करि अब मैं मानी ॥

बिनु हरि कृपा मिलहि नहीं संता ।

सो करि कृपा करहि दुःख अंता ॥

सोई भरोस मेरे उर आयो ।

जा दिन प्रभु दर्शन मैं पायो ॥12॥

जो सुमिरै तुमको उर माहि ।

ताकि विपति नष्ट ह्वै जाहि ॥

जय जय जय गुरुदेव हमारे ।

सबहि भाँति हम भये तिहारे ॥

हम पर कृपा शीघ्र अब करहु ।

परम शांति दे दुःख सब हरहु ॥

रोक शोक दुःख सब मिट जावै ।

जपै राम रामहि को ध्यावै ॥16॥

जा विधि होई परम कल्याणा ।

सोई सोई आप देहु वरदाना ॥

सबहि भाँति हरि ही को पूजे ।

राग द्वेष द्वंदन सो जूझे ॥

करै सदा संतन की सेवा ।

तुम सब विधि सब लायक देवा ॥

सब कुछ दे हमको निस्तारो ।

भवसागर से पार उतारो ॥20॥

मैं प्रभु शरण तिहारी आयो ।

सब पुण्यन को फल है पायो ॥

जय जय जय गुरुदेव तुम्हारी ।

बार बार जाऊं बलिहारी ॥

सर्वत्र सदा घर घर की जानो ।

रूखो सूखो ही नित खानो ॥

भेष वस्त्र है सादा ऐसे ।

जाने नहीं कोउ साधू जैसे ॥24॥

ऐसी है प्रभु रहनी तुम्हारी ।

वाणी कहो रहस्यमय भारी ॥

नास्तिक हूँ आस्तिक ह्वै जावै ।

जब स्वामी चेटक दिखलावै ॥

सब ही धर्मन के अनुयायी ।

तुम्हे मनावै शीश झुकाई ॥

नहीं कोउ स्वारथ नहीं कोउ इच्छा ।

वितरण कर देउ भक्तन भिक्षा ॥28॥

केही विधि प्रभु मैं तुम्हे मनाऊँ ।

जासो कृपा-प्रसाद तव पाऊँ ॥

साधु सुजन के तुम रखवारे ।

भक्तन के हो सदा सहारे ॥

दुष्टऊ शरण आनी जब परई ।

पूरण इच्छा उनकी करई ॥

यह संतन करि सहज सुभाऊ ।

सुनी आश्चर्य करई जनि काउ ॥32॥

ऐसी करहु आप अब दाया ।

निर्मल होई जाइ मन और काया ॥

धर्म कर्म में रूचि होई जावे ।

जो जन नित तव स्तुति गावै ॥

आवे सद्गुन तापे भारी ।

सुख सम्पति सोई पावे सारी ॥

होय तासु सब पूरन कामा ।

अंत समय पावै विश्रामा ॥36॥

चारि पदारथ है जग माहि ।

तव कृपा प्रसाद कछु दुर्लभ नाही ॥

त्राहि त्राहि मैं शरण तिहारी ।

हरहु सकल मम विपदा भारी ॥

धन्य धन्य बड़ भाग्य हमारो ।

पावै दरस परस तव न्यारो ॥

कर्महीन अरु बुद्धि विहीना ।

तव प्रसाद कछु वर्णन कीन्हा ॥40॥

॥ दोहा ॥

श्रद्धा के यह पुष्प कछु ।

चरणन धरी सम्हार ॥

कृपासिन्धु गुरुदेव प्रभु ।

करी लीजै स्वीकार ॥

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

"C_uayWxzLUUC4": { "on": "visible", "vars": { "event_name": "conversion", "transaction_id": "", "send_to": ["AW-11228319016/iWhqCKbb_a4YEKiaiuop"] } }
Scroll to Top