मुकुट सिर मोर का, मेरे चित चोर का ।

दो नैना सरकार के, कटीले हैं कटार से ॥

कमल लज्जाये तेरे नैनो को देख के ।

भूली घटाए तेरी कजरे की रेख पे ।

यह मुखड़ा निहार के, सो चाँद गए हार के,

दो नैना सरकार के, कटीले हैं कटार से ॥

कुर्बान जाऊं तेरी बांकी अदाओं पे ।

पास मेरे आजा तोहे भर मैं भर लूँ मैं बाहों में ।

जमाने को विसार के, दिलो जान टोपे वार के,

दो नैना सरकार के, कटीले हैं कटार से ॥

रमण बिहारी नहीं तुलना नहीं तुम्हारी ।

तुझ सा ना पहले कोई ना देखा अगाडी ।

दीवानों ने विचार के, कहा यह पुकार के,दो नैना सरकार के, कटीले हैं कटार से ॥

संबंधित पोस्ट

भगवान राधा-कृष्ण की कथा
भगवान कृष्ण और राधा के अनकहे तथ्य
भगवान कृष्ण के 20 भजन और उनके अर्थ
15 सुंदर व्हाट्सएप राधा कृष्ण तस्वीर
भगवान कृष्ण और उनकी वचन के 20 शक्तिशाली उद्धरण

संबंधित भजन: भगवान कृष्ण के शीर्ष 20 भजन और उनके अर्थ

विशेष अनुरोध: पोस्ट अच्छी लगे तो कमेंट बॉक्स में जय श्री कृष्ण लिखें !!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

*

code