श्री हनुमान जी

हनुमान जी भक्तों के संकट हरते हैं और श्री हनुमान जी की पूजा करने से कई लाभ होते हैं। जो भी व्यक्ति रोजाना हनुमान जी की आरती पढ़ता है उसके सारे दुख और संकट समाप्त हो जाते हैं। यह आरती हनुमान जन्मोत्सव, मंगलवार व्रत, शनिवार पूजा और अखंड रामायण के पाठ में प्रमुखता से गई जाति है !!

श्री हनुमान जी की आरती || आरती कीजै हनुमान लला की ।

॥ श्री हनुमंत स्तुति ॥

मनोजवं मारुत तुल्यवेगं,

जितेन्द्रियं, बुद्धिमतां वरिष्ठम् ॥

वातात्मजं वानरयुथ मुख्यं,

श्रीरामदुतं शरणम प्रपद्धे ॥

॥ आरती ॥

आरती कीजै हनुमान लला की ।

दुष्ट दलन रघुनाथ कला की ॥

जाके बल से गिरवर काँपे ।

रोग-दोष जाके निकट न झाँके ॥

अंजनि पुत्र महा बलदाई ।

संतन के प्रभु सदा सहाई ॥

आरती कीजै हनुमान लला की ॥

दे वीरा रघुनाथ पठाए ।

लंका जारि सिया सुधि लाये ॥

लंका सो कोट समुद्र सी खाई ।

जात पवनसुत बार न लाई ॥

आरती कीजै हनुमान लला की ॥

लंका जारि असुर संहारे ।

सियाराम जी के काज सँवारे ॥

लक्ष्मण मुर्छित पड़े सकारे ।

लाये संजिवन प्राण उबारे ॥

आरती कीजै हनुमान लला की ॥

पैठि पताल तोरि जमकारे ।

अहिरावण की भुजा उखारे ॥

बाईं भुजा असुर दल मारे ।

दाहिने भुजा संतजन तारे ॥

आरती कीजै हनुमान लला की ॥

सुर-नर-मुनि जन आरती उतरें ।

जय जय जय हनुमान उचारें ॥

कंचन थार कपूर लौ छाई ।

आरती करत अंजना माई ॥

आरती कीजै हनुमान लला की ॥

जो हनुमानजी की आरती गावे ।

बसहिं बैकुंठ परम पद पावे ॥

लंक विध्वंस किये रघुराई ।

तुलसीदास स्वामी कीर्ति गाई ॥

आरती कीजै हनुमान लला की ।

दुष्ट दलन रघुनाथ कला की ॥

॥ इति संपूर्णंम् ॥

श्री हनुमान जी की आरती || आरती कीजै हनुमान लला की ।

AartiAarti Kije Hanuman Lala Ki
AlbumAarti Sangrah
ArtistGulshan Kumar
SingerHariom Sharan
Music LabelT-Series

अवश्य पढे:

हनुमान जयंती: हनुमान जी और हनुमान जन्मोत्सव की कहानी
हनुमान चालीसा: प्रतिदिन जप करने का महत्व और लाभ
हनुमान चालीसा के बोल और अर्थ
हनुमान चालीसा (हिंदी और अंग्रेजी)
20 हनुमान जी की तस्वीरें: हनुमान जयंती पर इन तस्वीरों को अपनों के साथ साझा करें
हनुमान चालीसा पीडीएफ हिंदी में डाउनलोड करें और इसे रोजाना पढ़ें
श्री हनुमान जी की आरती अंग्रेज़ी लिरिक्रस

विशेष अनुरोध: अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो नीचे कमेंट बॉक्स में लिखें “जय श्री हनुमान” !!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

*

code